Full Form Of BMI | बीएमआई का फुल फॉर्म क्या है?

Full form of bmi – बीएमआई का फुल फॉर्म क्या है?
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप लोग हमें उम्मीद है कि आप जहां भी होंगे अच्छे ही होंगे। दोस्तों आज हम आपके लिए एक नया टॉपिक लेकर आए हैं जिसका नाम है BMI यानी की बॉडी मास इंडेक्स। दोस्तों क्या आप BMI के बारे में जानते हैं? क्या आपको BMI के बारे में पता है? क्या आपको यह मालूम है कि BMI क्या होता है BMI का कार्य क्या है?BMI कैसे कार्य करता है? यदि आप बीएमआई के बारे में नहीं जानते हैं तो आज हम इस टॉपिक में आपको BMI से संबंधित सभी प्रमुख जानकारियां देंगे। दोस्तों बीएमआई के बारे में संपूर्ण जानकारी जानने के लिए आप हमारे साथ अंत तक बने रहिए।


Full Form Of BMI

BMI का Full Form बॉडी मास इंडेक्स होता है। इसे हिंदी में शरीर द्रव्यमान सूचकांक कहते हैं। दोस्तों BMI एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग शरीर के वजन को नापने के लिए किया जाता है। इससे हमे यह पता चलता है की शरीर के लम्बाई के हिसाब से शरीर का कितना वजन होना चाहिए। इसमें लंबाई के वर्ग को शरीर के वजन से भाग देने पर माप पता चलता है। इससे यह पता चलता है कि किसके शरीर का वजन ज्यादा है और किसके शरीर का वजन कम है।


BMI, जिसे पहले क्वेटलेट इंडेक्स कहा जाता था, वयस्कों में पोषण की स्थिति को इंगित करने के लिए एक उपाय है। इसे किसी व्यक्ति के वजन के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसे व्यक्ति की ऊंचाई के वर्ग द्वारा मीटर (किलो / एम 2) में विभाजित किया जाता है। उदाहरण के लिए, एक वयस्क जिसका वजन 70 किलोग्राम है और जिसकी ऊंचाई 1.75 मीटर है, उसका BMI 40 होगा।


BMI रोग और मृत्यु पर अत्यधिक शरीर में वसा के प्रभाव पर आधारित होती है और वसा से काफी अच्छी तरह से संबंधित होती है। बीएमआई को बीमारी के जोखिम संकेतक के रूप में विकसित किया गया था; जैसे-जैसे BMI बढ़ता है, वैसे-वैसे कुछ बीमारियों का खतरा भी बढ़ता जाता है। अधिक वजन और मोटापे से संबंधित कुछ सामान्य स्थितियों में शामिल हैं: समय से पहले मृत्यु, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, कुछ कैंसर और मधुमेह।

Full form of bmi


BMI को कैसे नापते है?| How to Measure BMI


अगर आपका वजन 65 किलोग्राम है और लम्बाई 5.2 फुट (लम्बाई मीटर में 1.58496 ) है तो BMI ऐसे निकले 65/1.58496 = 41.02 तो यही आपका BMI होगा।
BMI नापने के लिए सबसे पहले आपको अपना वजन तथा अपनी लंबाई मीटर में पता होनी चाहिए। उसके बाद शरीर के वजन में लंबाई को भाग देने पर जो भी निष्कर्ष निकलता है। वही आपका BMI होता है। अब आपका BMI ज्यादा है या कम है यह निर्धारित करने के लिए कुछ श्रेणियां दी हुई है जिसमें निकाले गए निष्कर्ष से मिलान करने पर पता चलता है की शरीर का वजन काम है या ज्यादा।


BMI चार्ट

यहां पर हमने आपको एक BMI चार्ट दिया है। जिसमें आप अपने वजन तथा लंबाई के भाग से निकले हुए निष्कर्ष को नाप सकते हैं तथा चार्ट में यह देख सकते हैं कि आप की लंबाई के हिसाब से आपके शरीर का वजन ठीक है या नहीं वजन ज्यादा है या कम है या मोटापा है या अस्वस्थ हैं आप अपने शरीर के वजन के हिसाब से अपने शरीर की स्थिति को BMI चार्ट से जांच परख और देख सकते हैं।

 श्रेणीBMI रेंज -(kg/m2)BMI प्राइमइस BMI के आधार पर 5 फीट 11 इंच व्यक्ति का वजन
कम वजन होना16.5 से कम0.66 से कम53.5 किलोग्राम से नीचे
ज्यादा वजन कम होना16.5 से 18.5 तक0.66 से 0.7453.5 और 60 किलोग्राम के बीच
सामान्य वजन होना18.5 से 25 तक0.74 से 1.060 और 81 किलोग्राम के बीच 
वजन का ज्यादा होना25 से 30 तक1.0 से 1.281 और 97 किलोग्राम के बीच 
मोटापा वर्ग I30 से 35 तक1.2 से 1.497 और 113 किलोग्राम के बीच 
मोटापा वर्ग 235 से 40 तक1.4 से 1.6113 और 130 किलोग्राम के बीच 
मोटापा वर्ग 340 से अधिक1.6 से अधिक130 किलोग्राम से अधिक

डब्ल्यूएचओ के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की BMI माप 18.5 से कम है तो व्यक्ति कुपोषित या कुपोषण का शिकार है या उसे भोजन के विकार या अन्य किसी स्वास्थ्य समस्या को इंगित करता है। यदि किसी व्यक्ति का BMI 25 से अधिक होता है तो व्यक्ति का वजन जरूरत से ज्यादा है और वह भी किसी स्वास्थ्य समस्या का शिकार हो सकता है। किसी भी व्यक्ति का BMI मान 30 से अधिक हो होना उसके लिए मोटापा को दर्शाता है।


BMI के लाभ और हानि


BMI की सही सीमा – BMI की सही सीमा बनाए रखने के कई लाभ होते हैं। इससे मधुमेह नहीं होता है वह यदि पहले से ही मधुमेह के रोगी है तो इससे रक्त शर्करा का स्तर बेहतर होता है और मधुमेह के लिए जो दवाएं ले रहे हैं उनमें भी कमी आएगी। इससे रक्तचाप में कमी आती है और यदि पहले से ही उच्च रक्तचाप हो तो यह उसे नियंत्रित करता है और ली जा रही रक्तचाप संबंधित दवाइयां में भी कमी आती है।

इससे हृदय रोगों की संभावना में भी कमी आती है इसके अलावा इससे पक्षाघात कुछ प्रकार के कैंसर ऑडियो मोरोसिस जोड़ों के दर्द आदि में भी रोकथाम लाता है। कोलेस्ट्रॉल के स्तर को सामान्य बनाता है और स्थिर हो चुके रक्त वसा स्तर को सामान्य अवस्था में लाता है। इसके अलावा इस को बनाए रखने में ऊर्जा के स्तर में काफी सुधार आता है।


कम BMI के नुकसान – युवावस्था में सामान्य से बहुत कम और बहुत अधिक BMI होने वाले युवाओं की आयु बढ़ने पर जनन क्षमता कम हो जाती है। एलएनसीटी विश्वविद्यालय के शोध के अनुसार शरीर का भार प्रजनन और इससे संबंधित व्यवहार को प्रभावित करता है। इसके साथ ही गर्भावस्था के समय भी कई समस्याएं आती हैं। बीएमआई के कारण हर उम्र की स्त्रियों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है और आवश्यकता से अधिक पतली महिलाओं की माहवारी में अनियमितता होती है। वही दुबले पुरुष के शुक्राणु गुणवत्ता भी गिरी हुई पाई गई I


अधिक मोटे लोगों में भी स्तंभन दोष के लक्षण देखा गया। मोटा और दुबला होने का संबंध शारीरिक ऊर्जा से भी है भोजन अधिक लेने वाले लोग प्राय मोटे होते हैं उनके अमाशय में अधिक भोजन इकट्ठा हो जाता है जिसे पचाने के लिए आवश्यक गति करने में समस्या होने लगती है और अतिरिक्त ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है। वहीं दुबले लोगों के शरीर में गया भोजन आवश्यक गति के लिए आवश्यक ऊर्जा ही खत्म हो जाता है और ऊर्जा की कमी के कारण कमजोर लगती है।

यह भी पढ़े :

Pg का full form क्या है

HRD FULL FORM -पूरी जानकारी

Upsc-full-form-in-hindi


BMI कैलकुलेटर के नुकसान –

(1) महिलाओं और पुरुषों के BMI इंडेक्स एक जैसे हो सकते हैं लेकिन इस बात की संभावना भी अधिक होती है कि महिलाओं के शरीर में बॉडी फैट अर्थात चर्बी पुरुषों की तुलना में अधिक हो।


(2) बीएमआई केलकुलेटर से हमें इस बात का जरा सा भी पता नहीं चल पाता है कि हमारे शरीर के किस भाग में फैट अर्थात चर्बी अधिक है।


(3) ऊंची कद काठी वाले इंसान का बीएमआई भले ही ज्यादा हो लेकिन इस बात की संभावना काफी ज्यादा होती है कि वह एक इंसानों की तुलना में इससे ज्यादा स्वस्थ हो।


(4) एथलीट इंसान और एक आम इंसान का भले ही BMI इंडेक्स एक जैसा हो लेकिन आम इंसान की तुलना में एक एथलीट के शरीर में बॉडी फैट काफी कम होता है।


Bmi का उपयोग

BMI के लिए सूत्र की खोज 19वीं शताब्दी में हुई। लेकिन अनुपात के लिए शब्द शरीर द्रव्यमान सूचकांक और इसकी लोकप्रियता 1972 में मानी जाती है जिसका श्रेय एंकल लीज के द्वारा प्रकाशित एक पत्र को दिया जाता है।

जिसने पाया कि BMI और ऊंचाई की अनुपातों के बीच शरीर की वसा के प्रतिशतता के लिए सर्वोत्तम प्रोक्सी है शरीर की वसा के मापन के प्रति रुचि के बढ़ने का कारण एक समृद्ध पश्चिमी समाजों में ओबेसिटी या मोटापा एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है I


इस के द्वारा कहा गया कि BMI जनसंख्या अध्ययन के लिए स्पष्ट रूप से उपयुक्त है और व्यक्तिगत निदान के लिए अनउपयुक्त है फिर भी इसकी सरलता के कारण इसकी उपयोगिता के बावजूद व्यक्तिगत निदान के लिए इसका उपयोग बहुत व्यापक हो गया है। बीएमआई किसी व्यक्ति के मोटापे या पतलेपन का एक साधारण आंकिक माप उपलब्ध कराता है। जिससे स्वस्थ पेशेवर को अपने रोगी के साथ अतिरिक्त भार और कम भार की समस्या पर चर्चा करने में मदद मिलती है।


हालांकि BMI विवादास्पद बन गया है क्योंकि चिकित्सकों सहित कई लोग चिकित्सक निदान के लिए इसके आंकिक माप पर भरोसा करने लगे हैं लेकिन यह कभी भी BMI का उद्देश्य नहीं था। उसका प्रयोग एक औसत शरीर संगठन से युक्त गतिहीन व्यक्तियों के वर्गीकरण के साधारण तरीकों के लिए किया जाता है। इन व्यक्तियों के लिए वर्तमान में सेटिंग क्रमानुसार है 18. से 25 तक का BMI सही वजन को इंगित करता है।


18 से कम BMI वाले व्यक्ति का वजन जरूरत से कम है। जबकि 25 से अधिक BMI बताता है की व्यक्ति का वजन जरुरत से ज्यादा है। 17.5 से कम BMI यह संकेत देता है कि व्यक्ति एनोरेक्सिया नर्वोसा से संबंधित बीमारी से पीड़ित है 30 से अधिक BMI संख्या बताती है कि व्यक्ति ओबेसिटी (मोटापे) का शिकार है। 40 से अधिक संख्या इंगित करता है कि व्यक्ति में मोटापे की स्तिथि अधिक विकृत रूप ले चुकी है।


BMI प्राइम |BMI Prime

हम आपको बता दे कि BMI प्राइम BMI का एक साधारण संशोधन है इसकी मदद से वास्तविक BMI और BMI की उच्च सीमा का अनुपात है। परिभाषा के अनुसार BMI प्राइम भी शरीर के भार और शरीर के बाहर की उच्च सीमा का अनुपात है जिसकी गणना भी bmi-25 पर की जाती है।

चूँकि यह दो अलग BMI मानो का अनुपात है BMI प्राइम संबंधित इकाइयों के बिना एक आयाम रहित संख्या है। जिन व्यक्तियों में BMI प्राइम का मान < 0.74 होता है उनका वजन जरूरत से कम होता है 0.74 और 0.99 के बीच के मान वाले व्यक्ति का वजन अनुकूल होता है और जीने में इनका मान 1 या अधिक होता है उनका वजन जरूरत से ज्यादा होता है।


BMI प्राइम चिकित्सकिय दृस्टि से उपयोगी है क्योंकि इसकी मदद से व्यक्ति एक ही नजर में बता सकते हैं कि वह अपने वजन की सीमा से कितने प्रतिशत विचलित हो रहे हैं उदाहरण के लिए bmi34 से युक्त एक व्यक्ति में BMI प्राइम 34/25 =1.36 है और वह अपने ऊपरी द्रव्यमान सिमा से 36% अधिक है। एशियाई आबादी में BMI प्राइम के गणना लिए 25 के बजाय हर डोमिनटोर में 23 की ऊपरी सीमा BMI का उपयोग किया जाना चाहिए। फिर भी BMI प्राइम उन आबादियों के बिच तुलना को आसान बनता है। जिनमे ऊपरी सीमा BMI के मान भिन्न होते हैं।


उम्र के लिए BMI


बच्चों के लिए BMI का प्रयोग अलग-अलग तरीके से किया जाता है। वयस्कों के लिए इसकी गणना सामान तरीके से की जाती है लेकिन तब समान उम्र के अन्य बच्चों के लिए प्रारूपिक मान से तुलना की जाती है। कम वजन और अधिक वजन के निर्धारित सीमा के बजाय बीएमआई प्रतिशतक समान लिंग और आयु के बच्चों के साथ तुलना की अनुमति देता है


एक BMI जो 5 वे प्रतिशतक से कम है उस वजन को जरूरत से कम माना जाता है और 95% प्रतिशतक से अधिक उसे ओबेसिटी माना जाता है। 85 और 95 के बीच में प्रतिशतक से युक्त बच्चों को अधिक वजन युक्त माना जाता है।


ब्रिटेन में हाल ही के अध्ययन बताते हैं कि 12 और 16 वर्ष के बीच की लड़कियों का भी उम्र के लड़कों से औसतन 1.0 kg/m2 अधिक होता है।


आंतरराष्ट्रीय विभिन्नताएं

रेखीय पैमाने पर बताए गए ये भेद समय-समय पर अलग-अलग देश में भिन्न हो सकते हैं। जो वैश्विक अनुदान सर्वेक्षण में समस्या पैदा करते हैं। 1998 में अमेरिका का राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्था अमेरिकी परिभाषा को विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशानिर्देशों की रेखा पर ले आया।

उसके लिए सामान्य अतिरिक्त वजन सीमा को भी BMI 27.8 से कम करके BMI 25 तक लाया गया इसमें लगभग 30 मिलियन अमेरिकियों को परिभाषित करने का प्रभाव था I


जिन्हें पहले स्वस्थ या अतिरिक्त वजन से युक्त माना जाता था। साथ ही यह सलाह देता है कि लगभग BMI 23 के दक्षिण एशियाई सभी प्रकार के सामान्य अतिरिक्त वजन सीमा को कम किया जाता है और उम्मीद करता है कि शरीर के भिन्न प्रकार के नैदानिक अध्ययन के परिणाम में संशोधन होगा।


निष्कर्ष
दोस्तों आज हमने आपको BMI FULL Form ,Full form of Bmi ,BMI यानी की शरीर द्रव्यमान सूचकां से संबंधित सारी जानकारी दे दी है हमें उम्मीद है कि आपको यह पढ़कर काफी अच्छा लगा होगा दोस्तों इसी तरह की इंटरेस्टेड और जानकारियों से भरी टॉपिक को पढ़ने और जानने के लिए हमारे साथ के लिए बने रहिए। धन्यवाद

Leave a Comment